Thursday, 12 January 2017

मौन/कहानी

अमन कुमार  त्‍यागी 

बूढ़ा मोहन अब स्वयं को परेशान अनुभव कर रहा था। अपने परिवार की जिम्मेदारी उठाना अब उसके लिए भारी पड़ रहा था। परिवार के अन्य कमाऊ सदस्य अपने मुखिया मोहन की अवहेलना करने लगे थे। मोहन की विधवा भाभी परिवार के सदस्यों की लगाम अपने हाथों में थामे थी। वह बड़ी चालाक थी। वह नहीं चाहती थी कि मोहन अथवा परिवार का कोई भी सदस्य उसकी अवहेलना करे। यूं भी कहा जा सकता है कि मोहन घर का मुखिया था, परन्तु घर के मामलों में सभी महत्वपूर्ण निर्णय सोमती देवी ही लेती थीं। मोहन को अपने लिये मौन के सिवा दूसरा कोई रास्ता नजर ही नहीं आता था।
दरअसल मोहन का बड़ा भाई सोहन सिंह बड़ा ही बलशाली और दबंग था। एक दुर्घटना में उसकी व मां इन्द्रो की मृत्यु हो गयी थी। तभी से घर-परिवार की जिम्मेदारी, मोहन और उसकी विधवा भाभी सोमती देवी दोनों ने संयुक्तरूप से सम्हाली थी। मोहन को अपना वह वचन आज भी याद है, जिसमें उसने अपनी भाभी सोमती देवी से कहा था- ‘आप बड़ी हैं, जैसा चाहेंगी हम करते जायेंगे।’ बस इसी एक बात का भरपूर लाभ सोमती देवी उठाना चाहती थीं। सोमती देवी ने अपने पुत्र रोलू को राजकुमार बनाने का सपना देख लिया था।
मोहन की माँ इन्द्रो का रूतबा भी मोहन की भाभी सोमती ने देखा था। उसे याद है एक बार उसकी सास इन्द्रो ने किस तरह पड़ौसी को पिटवाया था। पड़ोसी राज को लगता था कि इन्द्रो उसकी जमीन पर कब्जा करना चाहती है। बस फिर क्या था, राज ने एक दिन अपने कुछ आदमी बुलाये और सोमती की सास के घेर पर कब्जा करना शुरू कर दिया। सोमती की सास का घेर बहुत बड़ा था। उसकी चारदीवारी भी नहीं थी। सोमती की सास ने अपने परिवार के लड़ाकों के साथ मिलकर पड़ोसी राज पर हमला कर दिया और उसे खदेड़ दिया, मगर इसी बीच एक और घटना घटी। उसके दूसरे पड़ोसी नची ने भी उसके घेर की कुछ जमीन पर कब्जा कर लिया। नची उससे अधिक ताकतवर था। उसके पास पैसे और आदमियों की कोई कमी नहीं थी। यही कारण था कि सोमती की सास उसके अधिक मुँह नहीं लगी। अब सोमती का भी यही हाल है। वह नची को तो अनदेखा करती है मगर राज को धूल चटाने का भरपूर प्रयास करती है।
सोमती की खूब चलती थी। क्या मजाल कि उसके परिवार का कोई भी सदस्य उसके आगे सिर उठाकर बात कर सके। एक बार सोमती ने जो निर्णय ले लिया सो ले लिया। वह कहती थी- मुझे अच्छा नहीं लगता कोई मेरे सामने बोले, मैं जैसे कहती रहूं बस वैसे ही करते रहो।
सोमती किसी भी तरह अपने अकेले पुत्र रोलू को जिम्मेदार बनाना चाहती है। वह कहती- ‘देख लेना देवर जी! एक दिन हमारा रोलू ही हमारे परिवार की बागडोर संभालेगा।’ सोमती की इस मंशा को परिवार के सभी लोग जानते थे, मगर बोले कौन? वो सब मोहन की ओर देख रहे थे, जबकि मोहन भीगी बिल्ली बन सोमती के आगे दुम हिलाने के अतिरिक्त कुछ जानता ही नहीं था। 
बाहर वालों को लगता था कि मोहन का परिवार एकजुट है, और मजबूत है। परन्तु सच तो यह है कि उसके परिवार में अधिकारों और कत्र्तव्यों को लेकर फूट पड़ चुकी है। परिवार के लोग अब मोहन को महाभारत का भीष्म और सोमती को धृतराष्ट्र की संज्ञा देने लगे। दें भी क्यों न? सोमती भी तो अपने पुत्र रोलू को घर का मुखिया बनाने के लिए कोई भी उचित व अनुचित तरीका छोड़ नहीं रही थी। 
हालांकि परिवार के लोग अभी उग्र नहीं हुए थे। लगता भी नहीं कि वे कभी उग्र होंगे भी। इसके पीछे मुख्य कारण यह है कि कोई भी पारिवारिक सदस्य अपने आपको दांव पर नहीं लगाना चाहता था। किन्तु सभी कमाऊ सदस्यों ने अपनी-अपनी जेबें गर्म करना शुरू कर दी थी। चूंकि सभी जानते थे कि सोमती देवी अपने पुत्र रोलू को ही घर का मुखिया बना देंगी। ऐसे में उन सबको रोलू की ओर देखना पड़ेगा। सो सभी ने अपनी-अपनी तिजोरियां भरनी शुरू कर दी। परिणामस्वरूप अब आय के स्त्रोत वही रहने के बावजूद आय घटने लगी। 
सोमती देवी निराश हैं। वह कभी-कभी खीझ उठती हैं। कहती है-‘सब निकम्मे होते जा रहे हैं, कोई भी अपनी जिम्मेदारी नहीं सम्हाल रहा है। लगता है अब रोलू को ही कुछ करना पड़ेगा।’ उन्हें लगता है कि कहीं रोलू के हाथों से सबकुछ निकल न जाये। वह रोलू को धनवान देखना चाहती हैं। वह समझती है कि विरासत पर सिर्फ और सिर्फ रोलू का ही हक है। परिवार के शेष लोग तो सिर्फ काम करने के लिए ही पैदा हुए हैं। 
एक बार मोहन ने कहा भी था-‘भाभी जी! आजकल आप परिवार के दूसरे बच्चों को अनदेखा कर रही हैं। कहीं ऐसा न हो कि बाकी सभी रोलू से दूर होते चले जाएं।’ 
तभी सोमती देवी ने नाक-भौं सिकोड़ते हुए कहा था-‘रोलू सा कोई नहीं है, उसे अपने खानदान की जिम्मेदारी सम्हालनी है, उससे किसी दूसरे बच्चे की तुलना नहीं की जा सकती।’ 
एक-दो बार और भी मोहन ने अपनी विधवा भाभी को समझाना चाहा, मगर सोमती की आँखों पर तो जैसे पट्टी बंधी थी। वह किसी की कोई बात सुनने को तैयार ही नहीं होती। मोहन भी मौन हो जाता।
इन परिस्थितियों का मूल कारण भी छोटे भाई, मोहन को ही मानने लगे थे। यही कारण है कि परिवार के दूसरे लोग गाहे-बगाहे सोमती देवी को मोहन के खिलाफ़ चढ़ाते और बदले में हमदर्दी बटोरते। या फिर कभी-कभी मोहन से भी भाभी की शिकायत करते, और मोहन के मौन से अपने सवालों का जवाब जानने का असफल प्रयास करते। 
एक बार सबसे छोटे भाई ने मोहन से कहा भी था-‘देख लेना भाई! हम भी मौन ही रहेंगे, किन्तु हमारे खानदान के लिये यह मौन ठीक नहीं रहेगा।’
इसका परिणाम यह हुआ कि अब गाँव के वो लोग भी मोहन और उसके परिवार के खिलाफ बोलने लगे, जो उनके आगे खड़े होने में भी हिचकिचाते थे। मोहन के खेतों में भी अब नुकसान होने लगा था। दोनो पड़ोसी राज और नची भी मिल गये थे। उसने अपने भाइयों और नौकरों से कहा, तो सबने सामने हां-हां कर दी मगर ध्यान देने को कोई तैयार नहीं था। 
अब तक सोमती देवी भी नुकसान से बिलबिला उठी थीं। उन्होंने परिवार के सदस्यों को एकत्रित किया और उन्हें उनकी जिम्मेदारी में लापरवाही के लिये डांटने लगी-‘तुम सब निकम्मे हो गये हो, कोई भी अपनी जिम्मेदारी नहीं समझ रहा है।’ 
सुनकर सभी मौन थे, कोई कुछ नहीं बोला था। सोमती देवी को उनका यह मौन कभी बहुत अच्छा लगता था, खुश होती थीं, कि उनके सामने कोई नहीं बोलता है, मगर आज यही मौन उन्हें काटने को दौड़ रहा है, वह बेचैन हैं कि कोई बोलता क्यों नहीं।
अमन कुमार त्‍यागी 

No comments:

Post a Comment